Breaking News
NEET फिर से आयोजित किया जाना चाहिए: बालाजी सिंह
पाकिस्तान
आत्मघाती हमले में 5 चीनी नागरिक की हत्या की जांच करने के लिए चीन से जांचकर्ता पाकिस्तान पहुंचे
राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू
राष्ट्रपति ने लालकृष्ण आडवाणी को भारत रत्न से सम्मानित किया, वीप के साथ पीएम मोदी भी मौजूद
मुकेश अंबानी ने श्लोका मेहता की सराहना की
मुकेश अंबानी ने श्लोका मेहता की सराहना की, कहा कि वह ‘गर्मजोशी और ज्ञान बिखेरती हैं’।
द ग्रेट इंडियन कपिल शो
द ग्रेट इंडियन कपिल शो में रणबीर कपूर और कपिल शर्मा की तस्वीरें वायरल
'लॉटरी किंग' सैंटियागो मार्टिन
‘लॉटरी किंग’ सैंटियागो मार्टिन कंपनी ने किस फायदे के लिए ज्यादातर चुनावी बॉन्ड टीएमसी, डीएमके और वाईएसआरसीपी को दिए हैं?
मॉस्को कॉन्सर्ट हॉल अटैक लाइव: रूस में आतंकी हमले में 143 लोगों की मौत
रूस मॉस्को कॉन्सर्ट हॉल में आतंकी हमले में 143 लोगों की मौत
मालदीव के राष्ट्रपति मुइज्जू
मालदीव के राष्ट्रपति मुइज्जू ने भारत को अपना सबसे करीबी सहयोगी बताया।
अरविंद केजरीवाल
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को प्रवर्तन निदेशालय ने गिरफ्तार किया।
ब्रह्मास्त्र साबित होगा भारत का पहला हल्का टैंक 'जोरावर'

इस महीने रेडी हो जाएगा भारत का हल्का टैंक, ऊंचाई वाले इलाकों में साबित होगा ‘ब्रह्मास्त्र’ देश का पहला हल्‍का टैंक इस महीने के आखिर तक तैयार हो जाएगा। फिलहाल इसे सेना ने ‘जोरावर’ नाम दिया है। जोरावर को पूर्वी लद्दाख में चीन को काउंटर करने के मकसद से बनाया गया है।

पहला स्वदेशी हल्का टैंक इस महीने हो जाएगा रेडी105mm की गन से लैस, चीनी टैंक पर पड़ेगा भारीपूर्वी लद्दाख के ऊंचाई वाले इलाकों में होगा तैनातभारत और चीन के बीच हाई ऑल्टिट्यूड वाले इलाकों के लिए नया हल्का टैंक तैनात किया गयापूर्वी लद्दाख में आंख दिखा रहे चीन की खैर नहीं! 2020 में उसने हाई ऑल्टिट्यूड वाले दुर्गम इलाकों में हल्‍के टैंक तैनात किए।

भारत को भी हल्के टैंकों की जरूरत महसूस हुई, 25 टन कैटेगरी में। नए टैंक के निर्माण को अप्रैल 2022 में मंजूरी दी गई। डिफेंस रिसर्च एंड डिवेलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (DRDO) ने लार्सन एंड टूब्रो (L&T) को साथ लिया और काम शुरू हो गया। इस महीने के आखिर तक यह ट्रायल के लिए तैयार हो जाएगा। सेना ने अभी इसे ‘जोरावर’ नाम दिया है।

105 मिलीमीटर की गन से लैस यह टैंक चीन के टाइप 15 टैंकों से कई गुना बेहतर हैं जो लद्दाख में तैनात किए गए हैं। चीनी टैंकों के मुकाबले इन लाइट टैंकों की मोबिलिटी और एक्यूरेसी ज्यादा है। K9 वज्र से अलग है ‘जोरावर’ टैंक का डिजाइनसूत्रों के अनुसार, टैंक का डिजाइन एकदम नया है। पहले रिपोर्ट्स थीं कि लाइट टैंक का डिजाइन K9 सेल्फ प्रोपेल्ड गन की चेसिस पर आधारित है।

हालांकि, इसे अनूठे चेसिस के साथ बनाया गया है। टैंक का वजन 25 टन से कम रखा गया है ताकि अत्यधिक ऊंचाई वाले क्षेत्रों में ज्यादा मोबिलिटी मिले। इसमें जॉन क्रॉकरिल की बनाई 105mm की गन लगी है। जोरावर टैंक में हमलों से बचने के लिए एक्टिव प्रोटेक्शन हो सकता है।

लड़ाई के मैदान में ज्यादा विजिबिलिटी के लिए इसमें एक अनमैन्ड एरियल वीइकल (UAV) इंटीग्रेट रहेगा। इस टैंक को केवल हाई ऑल्टिट्यूड वाले इलाकों में ही नहीं, सभी तरह की टेरेन में काम करने के लिए बनाया गया है। चूंकि यह बेहद हल्‍का है, इसे फौरन ही हवा के जरिए ट्रांसपोर्ट किया जा सकता है।

Back To Top