Breaking News
NEET फिर से आयोजित किया जाना चाहिए: बालाजी सिंह
पाकिस्तान
आत्मघाती हमले में 5 चीनी नागरिक की हत्या की जांच करने के लिए चीन से जांचकर्ता पाकिस्तान पहुंचे
राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू
राष्ट्रपति ने लालकृष्ण आडवाणी को भारत रत्न से सम्मानित किया, वीप के साथ पीएम मोदी भी मौजूद
मुकेश अंबानी ने श्लोका मेहता की सराहना की
मुकेश अंबानी ने श्लोका मेहता की सराहना की, कहा कि वह ‘गर्मजोशी और ज्ञान बिखेरती हैं’।
द ग्रेट इंडियन कपिल शो
द ग्रेट इंडियन कपिल शो में रणबीर कपूर और कपिल शर्मा की तस्वीरें वायरल
'लॉटरी किंग' सैंटियागो मार्टिन
‘लॉटरी किंग’ सैंटियागो मार्टिन कंपनी ने किस फायदे के लिए ज्यादातर चुनावी बॉन्ड टीएमसी, डीएमके और वाईएसआरसीपी को दिए हैं?
मॉस्को कॉन्सर्ट हॉल अटैक लाइव: रूस में आतंकी हमले में 143 लोगों की मौत
रूस मॉस्को कॉन्सर्ट हॉल में आतंकी हमले में 143 लोगों की मौत
मालदीव के राष्ट्रपति मुइज्जू
मालदीव के राष्ट्रपति मुइज्जू ने भारत को अपना सबसे करीबी सहयोगी बताया।
अरविंद केजरीवाल
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को प्रवर्तन निदेशालय ने गिरफ्तार किया।
CM नीतीश के घर पहुंचे लालू यादव और तेजस्वी यादव

बिहार के राजनीतिक गलियारों में कई तरह की चर्चाएं शुरू हो गई हैं। शुक्रवार को लालू प्रसाद यादव और तेजस्वी यादव के अचानक सीएम हाउस पहुंचने पर चर्चाओं को और भी तेजी से हवा मिलने लगी। हालांकि इन चर्चाओं के बीच तेजस्वी यादव ने साफ किया है कि गठबंधन में कोई दरार नहीं है।

बिहार की राजनीति में एक बार फिर से चर्चाओं का बाजार गरम है। पिछले दो-तीन दिनों से राजनीतिक गलियारों से चर्चाओं का धुआं उठ रहा है। शुक्रवार को आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव और डेप्युटी सीएम तेजस्वी यादव अचानक सीएम नीतीश कुमार के सरकारी आवास पर पहुंचे।

इसके बाद से चर्चाओं का धुआं तेजी से फैलने लगा। हालांकि सीएम नीतीश से मुलाकात के बाद लालू यादव और तेजस्वी यादव मुस्कुराते हुए वहां से निकले। तेजस्वी यादव ने मीडिया से बातचीत में कहा कि ये सामान्य मुलाकात थी। मुलाकात के दौरान केवल सरकार के कामकाज को लेकर बातचीत हुई। उन्होंने यह भी दोहराया कि इंडिया गठबंधन पूरी तरह से एकजुट है। तेजस्वी यादव ने दोहराया कि बीजेपी को किसी तरह की गलतफहमी में नहीं रहना चाहिए। सीट शेयरिंग को लेकर तेजस्वी यादव ने कहा कि जल्द ही सबकुछ तय हो जाएगा। तेजस्वी यादव के इन बयानों के बीच 10 ऐसी बातों की चर्चा हो रही है, जिसको लेकर अटकलों का बाजार गरम है।

जेडीयू-आरजेडी के बीच इन 10 मुद्दों पर एकरूपता नहीं

  1. लोकसभा चुनाव में सीट शेयरिंग का मुद्दा अब तक नहीं सुलझा है।
  2. सीट शेयरिंग को लेकर नीतीश कुमार को जल्दी, लालू यादव को कोई हड़बड़ी नहीं
  3. दही चूड़ा भोज में नहीं दिखी नीतीश और लालू यादव के बीच पुरानी वाली गर्मजोशी
  4. नीतीश कुमार ने I.N.D.I.A अलायंस का संयोजक बनने से किया इनकार
  5. टीचर भर्ती को लेकर जेडीयू और आरजेडी के बीच क्रेडिट लेने की मची होड़
  6. अयोध्या में बने राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम को लेकर जेडीयू और आरजेडी की राय अलग
  7. जेडीयू और आरजेडी के नेताओं के बीच लगातार जारी है जुबानी जंग।
  8. केके पाठक को लेकर जेडीयू-आरजेडी की अलग राय
  9. पीएम मोदी के संभावित बिहार दौरे को टाले जाने की बात
  10. कर्पूरी ठाकुर की जयंती पर जेडीयू और आरजेडी आमने-सामने
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश के घर पहुंचे लालू यादव और तेजस्वी यादव, इन 10 बातों पर जेडीयू-आरजेडी में झंझट, चर्चाओं का बाजार गरम
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश के घर पहुंचे लालू यादव और तेजस्वी यादव, इन 10 बातों पर जेडीयू-आरजेडी में झंझट, चर्चाओं का बाजार गरम

यहां बता दें कि बिहार में पिछले कुछ दिनों की सियासी गतिविधियों और बयानबाजियों पर गौर करें तो सत्ताधारी महागठबंधन में शामिल दो बड़े दल आरजेडी और जेडीयू में तालमेल बिगड़ने का आभास मिल रहा है। ऐसे में यह भी कहा जाने लगा है कि इससे राष्ट्रीय स्तर पर विपक्षी दलों के गठबंधन इंडिया की सेहत पर भी प्रतिकूल असर देखने को मिलेगा।

पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के आवास पर राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद की ओर से 15 जनवरी को आयोजित दही-चूड़ा भोज में शामिल होने के लिए जब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पैदल ही पहुंचे, तब यह माना जाने लगा था कि आरजेडी और जेडीयू के रिश्ते में पड़ी गांठ सुलझ गई है। लेकिन, बुधवार को दो बड़ी बातें एक बार फिर चर्चा को गर्म कर रही हैं कि दोनों दलों में संबंध मधुर नहीं रहे।

दरअसल, बुधवार को जब आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद से नीतीश की नाराजगी से संबंध में पूछा गया तो उन्होंने इस सवाल को ही टाल दिया। इसके अलावा, उसी दिन नीतीश कुमार प्रकाश पर्व के मौके पर अकेले तख्त हरिमंदिर परिसर, पटना साहिब में शामिल हुए तो डेप्युटी सीएम तेजस्वी यादव मुख्यमंत्री के वहां से लौटने के बाद तख्त हरिमंदिर परिसर पहुंचे। इससे पहले भी जब इंडिया गठबंधन की दिल्ली में बैठक होने वाली थी, तब भी लालू प्रसाद और नीतीश कुमार अलग-अलग दिल्ली गए और वापस लौटे।

इधर, कहा जा रहा है कि सीट बंटवारे को लेकर लालू का फॉर्मूला नीतीश को पसंद नहीं आ रहा है और सिटिंग सांसदों की 16 सीटें नहीं छोड़ने की जेडीयू की जिद आरजेडी को नहीं पच रही है। यही कारण है कि लालू प्रसाद कह रहे हैं कि सीट बंटवारे को लेकर जल्दी नहीं है, जबकि जेडीयू के नेता जल्द सीट बंटवारे को लेकर मोर्चा खोले हुए हैं।

Back To Top